ब्राह्मणवाद, पूंजीवाद और पितृसत्ता के खिलाफ लड़ाई.

मध्य प्रदेश के शिवपुरी ज़िले के एक ग्राम पंचायत भवन के पास कथित तौर पर, दो दलित बच्चों को खुले में शौच करने के लिए दो सवर्णों ने पीट-पीट कर मार डाला। बात खुले में शौचालय करने की नहीं थी, इस दुर्घटना का आधार जातिवाद है। वे बच्चे मारे गए क्योंकि वह दलित समुदाय के थे। परिवार वालों ने आरोप लगाया है कि लड़की के साथ यौन उत्पीड़न भी किया गया था और बच्चों के खिलाफ जातिसूचक गालियों का इस्तेमाल किया था। परिवार को उनकी जाति के कारण गाँव में हमेशा से ही भेदभाव का सामना करना पड़ा है। उन्होंने कहा, “हमें हैंड-पंप से पानी खींचने के लिए एक घंटे तक इंतजार करना पड़ता है। पूरा गांव हमारे साथ भेदभाव करता है।”

हिंसा और भेदभाव पर खुल के बात होनी चाहिए और इस सोच का जाति, धर्म, जेंडर, वर्ग आदि से जुड़ाव हमें समझना होगा। देश की कई संगठित शक्तियां इस दिशा में बोलने के लिए आगे आई हैं और समस्या की ओर ध्यान दिलाने की पुरज़ोर कोशिश भी की जा रही है। दलित महिला आंदोलन की सशक्त आवाज़ रजनी तिलक, एक ऐसी आवाज़ थीं। एक दलित महिला के खिलाफ हिंसा या भेदभाव, उनके औरत और दलित, दोनों पहचान से जुड़ा है। बड़ी संख्या में दलित महिलाओं का भारत में हर दिन उत्पीड़न, अपहरण, बलात्कार और हत्या की जाती है – फिर भी, हम उनकी कहानियों को नहीं सुनते हैं। उनके मुद्दों को उस तरह का कवरेज नहीं मिलता है जैसा कि उच्च-जातियों के अन्य पीड़ितों को मिलता है।

दलित और आदिवासी महिलाएं अपनी पहचान के लिए संघर्ष कर रही हैं, प्रकृति के लिए संघर्ष कर रही हैं, वे एक बेहतर समाज बनाने के लिए अन्य आंदोलनों का नेतृत्व कर रहीं हैं। आज भी, मैं दोहराता हूं, आज भी वे जीवित रहने के लिए न्यूनतम बुनियादी ज़रूरतों के लिए दर दर भटकते हैं और न्याय नहीं मिलता। आज़ादी के 72 साल बाद भी यह देश उनके लिए स्वास्थ्य, शिक्षा और बुनियादी सामाजिक सुरक्षा प्रदान करने में विफल रहा है। जो एक सघन चिंता का विषय है।

पिछले दिनों दिल्ली में आयोजित सम्मेलन एक मजबूत और प्रभावशाली वातावरण की ओर इंगित रहा, जिसका शीर्षक (हाशिये की महिलाओं के लिए इंसाफ)अपने आप में एक संपूर्ण उद्देश्य है जो दलित आदिवासी महिलाओं के सशक्तिकरण की बात करता है। सम्मेलन को नियोजित करने के कई महत्वपूर्ण उद्देश्य थे जिनमें से कई उद्देश्यों मैं उभारने की कोशिश कर रहा हूँ जो इस समस्या के समाधान का कार्य कर सकती हैं। सम्मेलन निम्नलिखित उद्देश्यों के साथ आयोजित किया गया था:

  1. ज़मीनी स्तर पर दलित आदिवासी महिला नेताओं और उत्पीड़ित महिलाओं के बीच संबंधों और नेटवर्किंग में सुधार करना। 
  2. घरेलू हिंसा, भूमि/संसाधन अधिकार, आवश्यक तथ्यों तक पहुंच जैसे चुनौतियों का सामना करने के लिए रणनीतियाँ बनाने में दलित आदिवासी महिलाओं और अन्य सीमांत महिलाओं की भूमिका।
  3. हाशिए की महिलाओं के लिए एक सामान्य मंच विकसित करना, विशेष रूप से दलित और आदिवासी महिलाओं के लिए।

संघर्ष और भविष्य में दलित आंदोलन की भूमिका को उसके अपने शब्दों में समाप्त करना सबसे अच्छा है: दलित आंदोलन का उद्देश्य ब्राह्मणवाद, पूंजीवाद और पितृसत्ता से लड़ना है। एक का अंत बिना किये दूसरे का अंत नहीं हो सकता है – मैं इस समझ के साथ और इस उद्देश्य से प्रेरणा लेते हुए आगे बढ़ रहा हूँ। 

Leave A Comment.

1 thought on “ब्राह्मणवाद, पूंजीवाद और पितृसत्ता के खिलाफ लड़ाई

  1. It’s true and this kind of incidents really shameful for our indian society and we really need to pull out the root couse and definitely it will take time but we have to take step need to create not only. Awareness but also rules and regulations with stirict application .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Get Involved.

Join the generation that is working to make the world equal and violence-free.
© 2019 Breakthrough Trust. All rights reserved.